अनोखा शहर जहाँ सर्दियों में 40 दिन सूरज नहीं निकलता, गर्मियों में दो महीने रात नहीं होती

हम सबने कई सारी रोचक चीजो के बारे में सुना और जाना होगा| लगभग लोग ये भी जानते होगे की दुनिया का एक हिस्सा ऐसा भी है जहाँ छ महीने के दिन और इतने ही समय की रात होती है लेकिन वहां कोई आबादी नहीं है| अब हम आपको ऐसे शहर के बारे में बता रहे है जहाँ सर्दियों के मौसम में चालीस दिन सूरज नहीं निकलता है और गर्मियों के मौसम में साठ दिन रात नहीं होती है लेकिन फिर भी इस शहर के लोग आराम से रह रहे है| इस शहर का नाम murmansk जो की रूस में है|

 

आराम से रहते है लोग- प्रथम विश्वयुद्ध के बाद इस शहर को रूस के प्रमुख बन्दरगाहो में गिना जाता था| यहाँ की जनसँख्या लगभग तीन लाख है और यहाँ पर सभी सुविधाएँ जैसे की ट्रंसपोर्ट, एयरपोर्ट, स्कूल और कंपनीज है| यहाँ के लोग हमेशा की तरह काम करते है| सर्दियों के मौसम में यहाँ का तापमान लगभग -34 डिग्री तक चला जाता है| इस समय यहाँ पर चालीस दिन सूरज नहीं निकलता है| हजारो की संख्या में बाहर से लोग इस जगह घूमने आते है| हालाँकि वो ज्यादा दिन नहीं रुक पाते क्योकि उन्हें यहाँ का जीवन शूट नहीं करता है| जबकि इसके उलट यहाँ के लोग ऑफिस जाते है और बच्चे स्कूल जाते है| ये लोग मौसम से प्रभावित नहीं होते है क्योकि इनकी आदत में ये बात शुमार हो चुकी है|

 

पोलर डे और पोलर रातें- यहाँ जब रात और दिन नहीं होते है उन्हें अलग अलग शब्दों से जाना जाता है| 2 दिसम्बर से 11 जनवरी तक यहाँ सूरज नहीं निकलता है और इसे पोलर नाईट कहा जाता है| यह समय साठ दिन का होता है और इस समय यहाँ खूब सर्दी भी पड़ रही होती है| इसके अलावा 22 मई से 23 जुलाई तक यहाँ रात नहीं होती है और इसे पोलर डे कहा जाता है| पोलर डे के समय यहाँ के लोगो को शायद ये भूल जाता होगा की रात कब हुई थी| ऐसे ही पोलर नाईट में भी होता है| लेकिन जब सूरज निकलता है तो शुरुआत में उसका समय लगभग 34 मिनट का होता है| इस दौरान यहाँ के लोग सडको में आ जाते है और जश्न मनाना शुरू कर देते है| सूर्य के आने की ख़ुशी में इस दौरान पूरा शहर झूम रहा होता है| इसे एक त्यौहार की तरह मनाया जाता है| आमतौर पर बाकी देशो और शहरो से जाने वाले लोगो को डॉक्टर्स वहां अधिक दिन रुकने से मना करते है| उनका कहना होता है की अधिक समय तक सूर्य नहीं निकलने की वजह से वहां जाने वाले लोगो को विटामिन डी की कमी हो सकती है जिससे हड्डियों में दर्द या विकास रुकने जैसी समस्या हो सकती है| लेकिन एक बात देखी गई की यहाँ के स्थानीय लोगो को आजतक ऐसी कोई भी समस्या नहीं हुई और वो पूरी तरह से स्वस्थ है| जब सर्दियों के मौसम में तापमान बहुत कम हो जाता है तब यहाँ के लोग बिजली बचाते है और उस समय बची हुई बिजली ये गर्मियों के मौसम में उस दिन इस्तेमाल करते है जब रात नहीं होती है|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *