क्या है “आयुष्मान भारत योजना” और कैसे मिलेगा इसका लाभ

देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 23 सितम्बर 2018 को झारखंड के रांची शहर में स्थिति तारा प्रभात मैदान से एक योजना शुरू की और इसे नाम दिया “आयुष्मान भारत- प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना”| इसके लांच होते ही इसके बारे में तरह तरह की बातें होनी शुरू हो गई| लोगो में एक भ्रम था और आज भी है की इसका फायदा कैसे लिया जाए और ये योजना है कैसी| इसके बारे में सारी जानकारी-

 

क्या है आयुष्मान भारत योजना-

यह योजना स्वास्थ के क्षेत्र में एक बहुत बड़ा कदम है और इसे दुनिया की सबसे बड़ी हेल्थकेयर योजना कहा जा रहा है| इसके तहत देश के पचास करोड़ लोगो को प्राइवेट और सरकारी अस्पताल में इलाज के लिए पांच लाख रुपये तक की मदत मिलेगी| यह योजना देश में 25 सितंबर से प्रभावी हुई| आयुष्मान भारत योजना के तहत देश के 1.5 लाख प्राथमिक स्वास्थ केन्द्रों को हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर के रूप में विकसित किया जाएगा और इन्हें सीधे जिला अस्पताल से डिजिटली लिंक किया जाएगा| इन सभी सेंटर्स पर जांच और इलाज की सभी सुविधाएँ आम जनता को मिलेगी| इसके तहत देश के 10.74 करोड़ परिवारों को स्वास्थ योजनाओ का लाभ मिलेगा| यानी की परिवार के किसी भी सदस्य को इलाज की जरूरत पड़े तो सरकार पांच लाख रुपये सालाना का खर्चा उठाएगी|

 

इसकी वजह-

इस योजना को लाने के पीछे एक बड़ी वजह है की हम लगातार स्वास्थ सेवाओ में विकसित देशो से पीछे होते जा रहे हैं| नीति आयोग के अनुसार भारत अपनी जीडीपी का केवल 1.13 प्रतिशत हिस्सा स्वास्थ पर खर्च करता है जबकि यह बहुत कम है चाइना और थाईलैंड जैसे देशो की अपेक्षा| इसीलिए स्वास्थ के क्षेत्र में एक क्रांतिकारी कदम उठाया गया और इसे लाया गया| 2018-19 के बजट में सरकार ने इसे दस हजार करोड़ रुपये दिए है| इस योजना में लगने वाले पैसे का 60% खर्चा केंद्र सरकार देगी और 40% खर्चा राज्य सरकारें भुगतान करेगी|

 

किसे मिलेगा फायदा-

सबसे अधिक कन्फ्यूजन इसी बात का है की इसका फायदा किसे और कैसे मिलेगा| देश के ग्रामीण, वंचित परिवार और शहर में काम करने वाले मजदूरों को इसका फायदा मुख्य रूप से मिलेगा| आकड़ो के अनुसार इसमें अभी 8.03% ग्रामीण और 2.33% शहरी लोग शामिल किये गए हैं| जिन लोगो को चुना गया है उनमे से कूड़ा बीनने वाले, कचरा उठाने वाले, भिखारी, घरेलू सहायक, पटरियों में सोने वाले, फेरीवाले, मजदूर, प्लम्बर, मिस्त्री, पेंटर, वेल्डर, सिक्यूरिटी गार्ड, कुली और सफाईकर्मी शामिल है|

 

अपना नाम कैसे पता करें-

आयुष्मान भारत में सरकार ने आपका नाम चुना है या नहीं ये पता करने के तीन तरीके हैं| सबसे पहले तो जान लीजिए की इसमें चुनाव कैसे हुआ है| साल 2011 की जनगणना के अनुसार जो भी शख्स या परिवार गरीब था उसे इस योजना का फायदा मिलेगा| 2011 के बाद वाले लोग इसमें शामिल नहीं किये गए हैं|

1 – नाम पता करने का पहला तरीका है की आप mera.pmjay.gov.in में जाएँ| इसके बाद वहां आपको “PM Jan Arogya Yojna” का बॉक्स दिखेगा जिसमे आपको अपना नम्बर डालना है और इसके बाद आपके पास एक ओटीपी आएगा जिसे डालने पर आपको पता चल सकेगा की आपका नाम आयुष्मान भारत में है या नहीं|

2 – नाम पता करने का दूसरा तरीका है की आप 14555 पर काल करें और वहां से जानकारी ले लें| आपसे कुछ बातें पूछी जाएगी और इसके बाद आपका नाम होगा तो वो आपको बता देंगे|

3 – तीसरा तरीका है आरोग्य मित्र, जो की उन अस्पतालों में बैठे होते हैं जो आयुष्मान भारत से जुड़े हैं| आपको उस अस्पताल में जाना है और आरोग्य मित्र से मिलना है| इसके बाद आरोग्य मित्र आपसे आपके कुछ डॉक्यूमेंट मांगेगा और इसके बाद अगर आपका नाम है तो आपको ई-कार्ड मिल जाएगा| इस कार्ड में आगे आपकी फोटो और नाम लिखा रहेगा और पीछे की तरफ आपका पता होगा| इसके बाद आपको इलाज करवाना है| इलाज के दौरान आपको केवल ये कार्ड दिखाना है और इसके अलावा किसी भी तरह के डॉक्यूमेंट जैसे की बीपीएल कार्ड, आधार कार्ड, राशन कार्ड आदि को दिखाने की जरूरत नहीं है| प्रधानमंत्री ने ऐसा कहा भी है की आपको केवल कार्ड अपने साथ रखना है|

 

किस जगह ले सकते हैं फायदा-

प्रधानमंत्री की घोषणा के बाद केवल दिल्ली, पश्चिम बंगाल, आंध्रप्रदेश, केरल, तेलंगाना और उडीसा ने इसे लागू करने से मना कर दिया है| इसके अलावा देश के बाकी सभी राज्यों में इस योजना की शुरुआत हो गई है| अगर आप किसी और राज्य से है और दूसरे राज्य में रह रहे हैं तो आपको वहां भी इसका फयदा मिलेगा| इस योजना में अब तक 13000 अस्पताल शामिल हो गए है| इसके अलावा देश के 445 जिलो में यह लागू हो गई है| जो अस्पताल बेहतर काम करेगे उन्हें सरकार पैसा भी देगी| अब सरकार आने वाले चार सालों में डेढ़ लाख वेलनेस सेंटर खोलने का टारगेट ले चुकी हैं|

 

किन बिमारियों का होगा इलाज-

इस योजना में मुख्य रूप से 1300 पैकेज बनाये गए हैं| जिनमे मुख्य रूप से MRI, CT-स्कैन, आँखों की सर्जरी, दांतों की सर्जरी, कीमोथेरेपी, कैंसर का इलाज, रेडिएशन, बाईपास सर्जरी, न्यूरो सर्जरी, रीढ़ की सर्जरी शामिल है|

 

क्यों है अलग- यह योजना बाकी योजनाओ से अलग है क्योकि स्वास्थ के क्षेत्र में हम अभी बहुत पीछे थे| देश में लाखो लोगो की मौत सालाना सर इलाज के आभाव में हो जाती हैं| यह योजना देश में एक क्रांति की तरह है| दुनिया के सबसे अमीर आदमी बिल गेट्स भी इसकी तारीफ़ कर चुके है|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *